कृषि उद्यमिता के माध्यम से ग्रामीण युवाओं में रोजगार सृृजन

Banner

Course Description

दुनिया का सबसे युवा देश भारत है जहाँ की 65 प्रतिशत से ज्यादा आबादी 35 वर्ष से कम उम्र की है जबकि 50 प्रतिशत से ज्यादा जनसंख्या 25 वर्ष से कम उम्र की है। यह हमारे देश के लिए बड़ी सम्भावनाओं के साथ एक बड़ी चुनौती भी है कि कैसे युवाओं को आधुनिक कौशल के साथ प्रशिक्षित किया जाय जिससे कि युवाओं को नौकरी के पीछे न भागकर दूसरों को नौकरी देने के लायक बनाया जा सके। आज कौशल विकास एवं उद्यमिता की चर्चा खूब हो रही है और कौशल विकास, स्टार्ट-अप इंडिया, मुद्रा योजना, रफतार जैसे योजनाओं के साथ युवाओं को उद्यमिता की ओर प्रोत्साहित किया जा रहा है। आज हम 21वीं सदी में हैं जहाँ पर प्रतिदिन बाजार के स्वरूप में परिवर्तन देखने को मिल रहा है।

ऐसी स्थिति में क्या आप उद्यमी बनने के लिए तैयार हैं?

  • क्या आप कुछ नया करने तथा उस पर पहल करने की सोच रखते हैं?
  • क्या आप अपने लक्ष्य के प्रति पूर्ण रूप से समर्पित हैं?

 यदि हाँ, तो आप इस पाठ्यक्रम का हिस्सा बन सकते हैं।

Course Content

  • उद्यमिता एवं उद्यमशीलता प्रेरणा प्रशिक्षण (ऑन्टरप्रेनोरियल मोटिवेशनल ट्रेनिंग)
  • संभावित कृषि उद्यम
  •  वित्तीय प्रबंधन और परियोजना निर्माण
  • उद्यम प्रबंधन
  • बाजार प्रबंधन

Course Audience

  •  कम्प्यूटर तथा स्मार्टफोन में दक्ष व्यक्ति
  •  कृषि उद्यमी
  •  ग्रामीण युवक एवं युवतियाँ
  • ग्रामीण स्तरीय अधिकारी एवं प्रसारकर्मी
  • महाविद्यालय/विद्यालय में अध्ययनरत छात्र एवं छात्राएँ

Outcomes of this Course

  • उद्यमिता के मूलभूत सिद्धांत
  • स्वयं को पहचानना एवं प्रबंधन
  • व्यक्तिगत क्षमता विश्लेषण
  •  उद्यमशीलता के अवसरों का आकलन एवं एक सफलतम उद्यम का सृजन
  • कृषि आधारित विभिन्न उद्यमों की समझ एवं क्रियान्वयन
  • वित्तीय प्रबंधन के साथ सफल परियोजना निर्माण में दक्षता
  • बाजार प्रबंधन के तहत उपभोगता व्यवहार एवं अपने उत्पाद की पैकेजिंग, ब्रांडिंग और उत्पाद की प्रचार-प्रसार करने में दक्षता

Certificates

एजीमूक कोर्स को कॉमनवेल्थ ऑफ लर्निंग, कनाडा, सेंटर फॉर कंटीन्यूइंग एजुकेशन, आई. आई. टी., कानपुर एवं बिहार कृषि विश्वविद्यालय, सबौर, भागलपुर द्वारा चलाया जा रहा है। इस कोर्स में सम्मिलित होने वाले प्रतिभागियों को उनकी प्रतिभागिता एवं पात्रता के आधार पर कॉमनवेल्थ ऑफ लर्निंग, कनाडा, सेंटर फॉर कंटीन्यूइंग एजुकेशन, आई. आई. टी. कानपुर एवं बिहार कृृषि विश्वविद्यालय, सबौर, भागलपुर द्वारा प्रमाण-पत्र प्रदान किया जायेगा।